कॉल डिटेल और पीएम रिपोर्ट से होगा मौत का खुलासा 

जबलपुर। धनुष तोप में मेड इन जर्मनी के नाम पर चीनी कल-पुर्जे की आपूर्ति मामले में सीबीआई जांच के घेरे में आए जीसीएफ में जूनियर वर्क्स मैनेजर एससी खटुआ (४५) की मौत का रहस्य अभी भी बरकरार है। पुलिस का कहना है कि पीएम रिपोर्ट और कॉल रिकार्ड से ही पता चलेगा कि यह हत्या है या सुसाइड। बुधवार को मामले को लेकर गहमागहमी रही। कर्मचारी संगठनों ने उच्चस्तरीय जांच की मांग की है।
बुधवार को जेडब्ल्यूएम एससी खटूआ की मौत के मामले में गन कैरिज फैक्ट्री जबलपुर के तमाम कर्मचारी संगठनों के नेताओं ने एसपी से मुलाकात की। इसके बाद कर्मचारी संगठन के नेता कैबिनेट मंत्री लखन घनघोरिया से मिलकर 
कलेक्टर छवि भारद्वाज को भी देने पहुंचे। 
कर्मचारी संगठनों ने जूनियर वर्क्स मैनेजर खटुआ की मौत के मामले में सीआईडी जांच की मांग रखी है। उनका आरोप है कि प्रभावशील व्यक्तियों को बचाने और जांच को सीबीआई जांच को प्रभावित करने के लिए खटुआ की हत्या कराई गई है। संगठनों का कहना है कि जूनियर वर्क्स मैनेजर से घर और गन कैरिज फैक्ट्री में पूछताछ की गई थी। उन्हें सीबीआई ने दिल्ली हेड क्वार्टर तलब किया था, इसी दौरान वह गायब हो गए। 
मेडिकल अस्पताल में हुआ पीएम …………
जीसीएफ ऑफिसर खटुआ का मेडिकल अस्पताल में पोस्टमार्टम किया गया। इस दौरान पुलिस और फॉरेंसिंक विभाग की टीम भी मौजूद रही। अभी मौत के कारणों का पता नहीं चल सका है। पुलिस का कहना है कि पीएम रिपोर्ट के बाद ही यह स्पष्ट हो पाएगा कि आखिर ऑफीसर की मौत वैâसे हुई है। 
मंत्री लखन से मिले कर्मचारी …………
ऑफीसर खटुआ की मौत को लेकर कर्मचारी संगठन के प्रतिनिधियों ने सामाजिक न्याय एवं कल्याण मंत्री लखन घनघोरिया से भी मुलाकात की। संगठन ने सीआईडी जांच की मांग की है। इस संबंध में मंत्री लखन घनघोरिया ने कहा कि आई जी से घटना के बारे में चर्चा की जाएगी। मामले की निष्पक्ष जांच होगी।
सुसाइड को लेकर चर्चा …………
ऑफीसर की मौत को लेकर तरह-तरह की चर्चाएं हो रही हैं। सुसाइड करने की बात भी सामने आ रही है। कहा जा रहा है कि पारिवारिक कारणों से ऑफीसर ने सुसाइड की है। वहीं यह बात भी कही जा रही है कि ऑफीसर ने सीबीआई जांच की टेंशन के कारण आत्महत्या की है। हालाकि पुलिस जांच पूरी होने के बाद ही स्पष्ट हो पाएगा कि यह आत्महत्या है या फिर मर्डर। परिजनों ने हत्या की आशंका जाहिर की है।
ये है मामला …………
जूनियर वर्क्स मैनेजर की लाश मंगलवार को जीसीएफ न्यू कॉलोनी में एमइएस बोरिंग के पास पत्थरों की खाई में मिली। खटुआ १९ दिनों से लापता थे। लाश तीन-४ दिन पुरानी बतायी जा रही है। वहीं सिर धड़ से अलग होना भी बताया जा रहा है। परिजन ने खटुआ की हत्या की आशंका जताते हुए इसे बड़ी साजिश का हिस्सा बताया है। टीआई संजय सिंह ने बताया कि जीसीएफ क्वार्टर निवासी मौसमी खटुआ ने १७ जनवरी को पति एससी खटुआ की गुमशुदगी की शिकायत दर्ज करायी थी। 
धनुष तोप प्रकरण में जुड़ा है खटुआ का नाम ………
जीसीएफ ने धनुष तोप के लिए दिल्लीr की सिद्ध सेल्स को छह वायर रेस रॉलर बेयरिंग (डब्ल्यूूआरआरबी) की आपूर्ति का ठेका ५३.०७ लाख रुपए में दिया था। सिद्ध सेल्स ने सीआरबी-मेड इन जर्मनी लिखकर चीनी बेयिरंग की सप्लाई कर दी, बेयरिंग को साइनो यूनाइटेड इंडस्ट्रीज (लूयांग) लिमिटेड, हेनान चीन ने बनाया था। इसी प्रकरण में सीबीआई की जांच चल रही है। टेंडर खरीदी प्रक्रिया के हिस्सा रहे एससी खटुआ के घर पर १० जनवरी को सीबीआई ने दबिश भी दी थी। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *