दिल्‍ली सहित देश के अन्‍य राज्‍यों में 55 दिन बाद खुले बाजार, कुछ खास नहीं रहा कारोबार

नई दिल्‍ली। कोविड‑19 की महामारी और देशव्‍यापी लॉकडाउन 4.0 के बीच दिल्ली सहित विभिन्न राज्यों में ढील दिये जाने से देश के बाजार खुले, लेकिन कोई विशेष कारोबार नहीं होने की खबर है। कारोबारियों के संगठन कन्‍फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने कहा कि 55 दिनों बाद मंगलवार को बाजारों में व्‍यापारियों ने दुकानें खोलीं और साफ़-सफाई की। लेकन, जयदातर बाजारों में कारोबार नहीं के बराबर हुआ। कैट ने बताया कि देशभर में 4.5 करोड़ और दिल्ली में लगभग 5 लाखो दुकानें खुली, लेकिन ग्राहक नहीं के बराबर आए। वहीं, दिल्‍ली में ऑड-इवन की वजह से परेशानी को देखते हुए अन्‍य विकल्‍प पर विचार करने की मांग कैट ने की है।

कैट के राष्‍ट्रीय महामंत्री प्रवीण खंडेलवाल का कहना है कि लगभग सभी बाज़ारों में दुकानों पर काम करने वाले कर्मचारियों की बहुत कमी थी। इसकी वजह ये है कि बड़ी संख्या में कर्मचारी अपने राज्यों में पलायन कर गए हैं। उन्‍होंने कहा कि एक मोटे अनुमान के मुताबिक दिल्ली में काम करने वाले लगभग 70 फीसदी से ज्यादा कर्मचारी अपने गांव चले गए हैं। इसके अलावा बाजारों में काम करने वाले ठेले वाले मजदूर और दिहाड़ी मजदूर की संख्‍या भी लगभग नदारद थे।

खंडलवाल ने कहा कि ऐसी परिस्थिति के बावजूद व्यापारियों ने अपनी दुकानों को सैनिटाइज्ड करने का काम शुरू किया है। केंद्र और राज्य सरकारों के निर्देशानुसार व्यापारियों ने मास्क और दस्ताने पहने के साथ दो गज की सामजिक दूरी कायम रखने काम भी शुरू किया है। उन्‍होंने कहा कि देशभर के विभिन्न राज्यों में करीब 4.5 करोड़ दुकानें खुलीं, जबकि दिल्ली में ऑड-इवन व्यवस्था के कारण लगभग 5 लाख दुकानें ही खुलने की खबर है।

कैट के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने बताया कि पिछले 55 दिनों में देशभर में जारी लॉकडाउन की वजह से दुकानें पूरी तरह से बंद थीं। इसकी वजह से दुकानें पूरी तरह से धूल और मिट्टी से ढ़की हुईं थी और गदंगी का साम्रज्य बन गया था। उन्‍होंने कहा कि दुकानों के काउंटर से लेकर स्टॉक तक धूल‑मिट्टी की मोटी परत चढ़ी थी, जिसको साफ़ करना अपने आप में एक चुनौती है। कई दुकानों पर रखा माल ख़राब हुआ है जबकि कपड़े आदि दुकानों में चूहों ने काफी नुकसान पहुंचाया है।

खंडेलवाल का कहना है कि हालांकि, राजधानी दिल्ली के व्यापारियों ने ऑड-इवन व्यवस्था के तहत अपनी दुकानें खोली है, लेकिन दिल्ली के बहुसंख्यक व्यापारियों को ऑडइवन का यह सिस्टम रास नहीं आ रहा है। आड इवन व्यवस्था को लेकर अनेक कठिनाइयां आएंगी। दिल्ली के थोक बाजार और भीड़भाड़ वाले इलाके में है। उन्‍होंने कहा कि दिल्‍ली में एक-एक बिल्डिंग में कई तरह की अनेकों दुकानें मौजूद है। व्यापारियों में भ्रम इस बात को लेकर बना हुआ है कि जिस बिल्डिंग में दुकानें हैं उनके सरकारी नंबर को माना जाए अथवा बिल्डिंग के अंदर जो दुकानें हैं। इसके इतर उन पर जो प्राइवेट नंबर दुकानदारों ने अपनी सुविधा से रखे हैं, उनको नंबर माना जाए। वहीं, दूसरी ओर ग्राहकों के लिए भी बेहद अजीब स्तिथि होगी क्योंकि अलग-अलग दुकानें अलग तरह का व्यापार करती हैं, इस लिहाज से ग्राहक अगर एक दिन बाजार में आएगा तो संभवत: हर प्रकार का सामान नहीं खरीद पाएगा।

कैट ने दिल्ली के उप‑राजयपाल अनिल बैजल और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल को इसको देखते हुए एक पत्र भेजकर कहा है कि दिल्ली के सभी भागों के अधिकांश व्यापारी संगठन ऑड-इवन व्यवस्था को दिल्ली के व्यापार के अनुकूल नहीं मानते हैं और उनका मानना है कि इससे दिल्ली का व्यापार पूरे तौर पर खुल नहीं पाएगा। कैट का कहना है कि दिल्ली की मार्केट्स को दस भागों में बांट दिया जाए, जिसमें से पांच भाग सुबह 8 बजे से दोपहर 1 बजे तक खुलें, जबकि बाकी पांच भाग दोपहर 1 बजे से शाम 5 बजे तक खुलें, यदि चाहें तो एक दिन छोड़कर एक दिन एक भाग को पूरे दिन के लिए खोला जा सकता है। इससे एक भाग का एक मुश्त व्यापार भी खुल सकेगा और भीड़भाड़ भी नहीं होगी।

Leave a Reply